कविताएँ

शेर ...१..

दुनिया- दारी का अब मिज़ाज़ समझ नहीं आता.. 

जितना समझता हूँ दोस्त उतना उलझता जाता हूँ..