कविताएँ

कविता ...२..क्या गुजरती है ?

गलत राह पर जब चलता है बेटा ॰
तो माँ-बाप पर क्या गुजरती है ?

देर रात घर पर नहीं आता है बेटा.
तो माँ-बाप पर क्या गुजरती है ?

दारू- बोतल में रोज उतरता है बेटा.
तो माँ-बाप पर क्या गुजरती है ?

पदाई न कर राह में भटकता है बेटा॰
तो माँ-बाप पर क्या गुजरती है ?

अपने खून को ही धोखा देता है बेटा।
तो माँ-बाप पर क्या गुजराती है ?

राजेंद्र रंजन