कविताएँ

शेर..३

शबे-गम और तन्हाई का आलम..
खुद की गिरफ्त में मज़ा ही मज़ा ..

राजेंद्र रंजन..