कविताएँ

मुक्तक

.नदी की धार है जिन्दगी .

साहिल के पार है जिन्दगी 

पल दो पल खुश रह ' रंजन '

शेष यही सार है जिन्दगी..

राजेंद्र रंजन ..